अब कौन देगा गंगा के लिए बलिदान

 
हरिद्वार।
गंगा की अविरलता और गंगा रक्षा के लिए आंदोलन चलता रहेगा तपस्वी संत भागीरथ की गंगा को बचाने के लिए अपना बलिदान देते रहेंगे स्वामी सानंद जी के 116 दिन के अनशन के बाद प्राण त्यागने पर अब मातृ सदन के ब्रह्मचारी आत्मबोधानंद कल सुबह से आमरण अनशन पर बैठेंगे। यह जानकारी मातृ सदन के प्अध्यक्ष स्वामी शिवानंद सरस्वती ने दी।

 उन्होंने बताया कि मातृ सदन ने स्वामी सानंद को आश्वासन दिया था कि यदि उन्हें कुछ हो जाता है तो उनके आंदोलन को मातृ सदन चलाता रहेगा स्वामी शिवानंद ने कहा जैसा बताया गया था की 24 अक्टूबर से मातृ सदन के संत अनशन पर बैठेंगे उसी श्रंखला में ब्रह्मचारी आत्मबोधानंद बुधवार सुबह से अनशन पर बैठेंगे साथ ही आश्रम के ही एक और संत स्वामी पूर्णानंद अन्न का त्याग कर फलाहार का तप करेंगे।