आत्मनिर्भर मेले में आकर्षण का केन्द्र बना मिट्टी बाजार

 
 

-मिट्टी के बर्तनों की आेर आकर्षित हो रहे लोग

राहुल चौरसिया

हरिद्वार।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की आत्मनिर्भर भारत की मुहिम का असर अब पूरे देश में देखने को मिल रहा है। भारतीय अपनी परम्पराआें प्राचीन—संस्कृति से आधुनिकता के माध्यम से जुड रहे है। लोगों को प्राचीनतम माटी कला पद्धति से बने बर्तन खुब भा रहे है। स्वस्थ जीवन जीने के लिए मिट्टी के महत्व को जानते हुए लोग मिट्टी से बने बर्तनों की आेर आकृषित हो रहे है।
पीएम मोदी के आह्वान पर पूरे देश में चल रहे आत्मनिर्भर मेले आयोजित कि ये जा रहे है। इस तरह नगर के मध्य ऋषिकुल मैदान में भी आत्मनिर्भर मेला आयोजित किया गया है। मेले में विशेष आकर्षण का केन्द्र मिट्टी बाजार बना हुआ है। गुजरात में बने मिट्टी के विभिन्न बर्तनों को देखने व खरीदने के लिए लोग उमड रहे है। कप, ग्लास, प्लेट, थाली, पानी की बोतल, प्रेशर कूकर,डोंगे आदि मिट्टी के बने हुए है। बेहाद आक र्षण डिजाइन से बने यह बर्तन जितने दिखने में सुन्दर है, उससे कही ज्यादा इसमें पकने वाला खाना स्वस्थ्य के लिए लाभदायक है। मिट्टी में बना खाना बनने से कई प्रकार की बिमारियों का जड़ से खत्मा हो जाता है। मिट्टी के बर्तन प्रयोग में लाने से ब्लडप्रेशर, मधुमेह, थाईराइड, गठिया—बाई, जोडो के दर्द से छुटकारा मिल सकता है। मिट्टी बाजार की प्रोपाराइट अंजलि अग्रवाल ने बताया कि मिट्टी से बने ईको—फ्र ैन्डली क्लेय प्रोडक्ट है। रसोई में प्रयोग आने वाले सभी प्रकार के बर्तन मिट्टी से बने बाजार में उपलब्ध है। साथ ही दैनिक प्रयोग में आने वाले विभिन्न प्रकार की वस्तुएं भी उपलब्ध है। जिसे लोग काफी पसन्द कर रहे है। उन्होंने बताया कि कई ग्राहकों द्वारा अपने पूरे किचन में मिट्टी के बर्तन प्रयोग कर रहे है। मिट्टी से बने बर्तनों में खाने का भी स्वाद कई गुना बढ़ जाता है। उन्होंने बताया कि यह बर्तन आेवन व माइक्रोवेब में भी यूज किये जा सकते है। अंजलि ने बताया कि मेले में बर्तनों का चुनिन्दा क्लैक्शन आया गया है। बर्तनों का पूरा क्लैक्शन हरीपुर कलां स्थित शोरुम में उपलब्ध है।
ग्राहक रीना रावत ने कहना है कि मिट्टी से बने बर्तनों में खाने में अलग ही स्वाद आता है। उन्होंने बताया कि हम पहले से ही मिट्टी से बने कुछ बर्तनों का प्रयोग कर रहे है, लेकिन अब मिट्टी के बने इतने बड़े क्लैक्शन से वह इन्हे अपनी रसोई में ले जाने के लिए उत्साहित है। उधर डा.संजय कपूर का कहना है कि मिट्टी के बर्तनों में खाना खाने व मिट्टी की हांडी, पतीले, प्रेशर क ूकर में बना खाना स्वस्थ्य के लिए बहुत लाभकारी है। स्टील व एलमुनियम के बर्तन में बना खाना कई प्रकार की बिमारियों का कारण बनती है। इस लिहाज से मिट्टी के बर्तन बेहद लाभकारी है।
-—-—-—-—-—-—-—-—-—-—-—-—-—-—-—-—-—-—-—-—-