विवादों से पुराना नाता रहा है सुरेश राठौर का, न्यायालय के आदेश पर बलात्कार की जाँच पुनः शुरू

हरिद्वार:  ज्वालापुर सुरक्षित विधानसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी के रूप में एक बार फिर भाजपा द्वारा वर्तमान विधायक सुरेश राठोर को ही उम्मीदवार घोषित किया गया है पहले से ही बलात्कार के आरोप में फजीहत झेल रहे सुरेश राठौर को उम्मीदवार घोषित करते ही विपक्षी दलों ने इसे हाथों हाथ ले लिया है !

बता दें कि भाजपा विधायक पर एक भाजपा नेत्री द्वारा ही बलात्कार का आरोप लगाते हुए थाना बहादराबाद में मुकदमा दर्ज कराया गया था उन्हीं दिनों भाजपा विधायक और पीड़िता के बीच आपसी सुलह नामे की खबरें भी सामने आई थी ! जिसके आधार पर मुकदमे की जांच कर रहे विवेचना अधिकारी  ने मुकदमे में एफआर लगाते हुए न्यायालय में रिपोर्ट पेश कर दी थी,  जिस पर बीती 7 जनवरी को सुनवाई करते हुए मुख्य न्यायिक अधिकारी हरिद्वार में एफआर को निरस्त निरस्त करते हुए मामले की पुनः जांच किए जाने के आदेश बहादराबाद थानाध्यक्ष को दिए गए हैं.  वही भाजपा विधायक को पुनः  ज्वालापुर सीट से उम्मीदवार घोषित करते ही विधायक के खिलाफ आक्रोश का माहौल बनता नजर आ रहा है विधायक के उपर क्षेत्र की अनदेखी को लेकर क्षेत्र में विरोध भी बहुत व्याप्त है !

बता दे विधायक का शुरुआत से ही विवादों से नाता रहा है इससे पहले  कभी अपने विधानसभा क्षेत्र के  एक बहुत बड़े हिस्से को पाकिस्तान बताया जाना रहा हो, या स्वयम को  स्वयम्भू रविदासाचार्य घोषित किया जाना,  या गृहस्थ होते हुए भी 2021 के महाकुंभ में विधायक सुरेश राठौर को निरंजनी अखाड़े के महामंडलेश्वर बनाने की कवायद किया जाना,  जिसका संत समाज में विरोध होने के बाद यह निर्णय वापस लेना पड़ा था!