उत्कल एक्सप्रेस के डिब्बे पटरी से उतरे,50 के जायेदा की मौत,400 से अधिक घायल

मुज्जफरनगर(ब्यूरो)।
पुरी से हरिद्वार जा रही कलिंग उत्कल एक्सप्रेस शनिवार शाम मुजफ्फरनगर जिले में खतौली के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गई। ट्रेन की कई बोगियां एक दूसरे के ऊपर चढ़ गईं और कई पटरी से उतरी गईं। चश्मदीदों ने हादसे में 50 से अधिक लोगों की मौत की बात कही है, हालांकि आधिकारिक पुष्टि 23 मौतों की हुई है। 80 से अधिक लोग घायल हुए हैं। रेलवे लाइन के पास बने कुछ मकान भी बोगियों की चपेट में आए हैं। रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने देर रात घटनास्थल पर खतौली पहुंचे और मुआवजे का ऐलान किया।

कलिंग-उत्कल एक्सप्रेस हादसा: जानिए जरूरी हेल्पलाइन नंबर
केन्द्रीय रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने इस हादसे में मरने वाले यात्रियों के परिवारवालों को 3.5 लाख रुपये और घायलों को 50 हजार रुपये का मुआवजा देने का ऐलान किया है। वहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मरने वाले यात्रियों के परिवार को दो लाख रुपये और घायलों के परिवार को 50 हजार रुपये का मुआवजा राशि देने की घोषणा की है। जानकारी मिलते ही केन्‍द्रीय राज्‍यमंत्री संजीव बालियान डीएम, एसएसपी के साथ मौके पर पहुंच गए हैं। ट्रेन की चपेट में रेलवे लाइन के आसपास रहने वाले लोग भी आए हैं। रेलवे ने हेल्पलाइन नंबर 9760534054/ 5101 भी जारी कर दिया है। बताया जा रहा है कि हादसे के पीछे आतंकियों की साजिश हो सकती है। इसकी जांच के लिए एटीएस की टीम रवाना हो चुकी है। ट्रेन की तीन बोगियां बुरी तरह क्षतिग्रस्त हुई हैं और 10 डिब्बे डिरेल हो गए हैं। हादसा 5:50 बजे खतौली की जगत कालोनी में हुआ। ट्रेन कुछ ही देर पहले खतौली स्टेशन से आगे को रवाना हुई थी। अचानक तेज आवाज के साथ बोगियां एक दूसरे पर चढ़ गईं और कई डिरेल हो गईं। चीख-पुकार मच गई। हादसा होते ही आसपास रहने वाले लोग मदद में दौड़ पड़े। मुजफ्फरनगर के पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारी राहत टीमों के साथ मौके पर पहुंचकर बचाव में जुट गए। केन्द्रीय राज्यमंत्री संजीव बालियान भी वहां आ गए।