सीएम ने कहा सरकार कोई भी जांच कराने को तैयार

-सीएम ने की श्री पंचायती बड़ा उदासीन अखाड़े में सन्त-महंतो से मुलाकात
हरिद्वार(अमित शर्मा)।
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने 15 सितम्बर 2017 की रात हरिद्वार-लोकमान्य तिलक एसी सुपरफास्ट ट्रेन से हरिद्वार से मुम्बई इलाज के लिए जा रहे अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय प्रवक्ता तथा बड़ा अखाड़ा उदासीन के कोठारी संत महंत मोहनदास जी के लापता होने के सम्बन्ध में पंचायती अखाड़ा बड़ा उदासीन के संतों के साथ बैठक की।

बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार का लगातार प्रयास है कि जल्द से जल्द कोठारी संत महंत मोहनदास जी का पता लगे, इस संबंध में किसी भी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। मुख्यमंत्री ने बताया कि इस संबंध मंे उनकी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भी बातचीत हुई है। उन्हांेने कहा कि संत समाज इस संबंध में जिस प्रकार की भी जांच के लिए कहेगा सरकार जांच को तैयार है। उन्होंने कहा कि संतों की सुरक्षा सरकार का नैतिक दायित्व भी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें यहां आने में विलम्ब हुआ जिसके लिए उन्होंने खेद प्रकट किया। कहा कि सरकार संतों के साथ है। इस संबंध में जांच के लिए एसआईटी का गठन कर दिया गया है। मुख्यमंत्री ने संतों के साथ इस प्रकार की घटनाआंे को दुर्भाग्यपूर्ण बताया।
पंचायती अखाड़ा बड़ा उदासीन के श्रीमहंत महेश्वरादास ने कहा कि उन्हें सरकार पर तथा मुख्यमंत्री पर पूर्ण भरोसा है। अभी तक की जांच से संतुष्ट हैं। उन्होंने फिलहाल सीबीआई जांच से इनकार किया। उन्होंने कहा कि संतों को पुलिस प्रशासन तथा सरकार पर पूर्णं विश्वास है।
इस अवसर पर महामण्डलेश्वर हरिचेतनानंद, महंत रघुमुनि, महंत दुर्गादास, महंत सुखदेवमुनि, महंत कमलदास, महंत राममुनि, बाबा हठयोगी, कैलाशानंद ब्रह्मचारी, सतपाल ब्रह्मचारी, महंत गंगादास, महंत ऋषिश्वरानंद, देवानंद सरस्वती, कैबीनेट मंत्री मदन कौशिक, कैबीनेट मंत्री धन सिंह रावत, मेयर मनोज गर्ग, जिलाधिकारी दीपक रावत, एसएसपी कृष्ण कुमार वीके, नरेश बंसल, नरेश शर्मा, विकास तिवारी,  आदि संतगण उपस्थित थे।