मरा चूहा मिलने की जांच स्वास्थ्य विभाग से कराने की मांग की

 
हरिद्वार।
पूर्व विधायक अम्बरीष कुमार ने जिला प्रशासन से अम्बेडकर नगर में बांटी गयी खाद्य सामग्री में मरा हुआ चूहा मिलने की जांच स्वास्थ्य विभाग से कराने की मांग की है।
प्रैस को जारी बयान में अम्बरीष कुमार ने कहा कि लॉकडाउन में भोजन का संकट झेल रहे लोगों को राहत के रूप में बांटी गयी खाद्य सामग्री में मरा हुआ चूहा निकलना गंभीर घटना है। घटना के बाद विवाद हुआ और दोनों तरफ से पुलिस में रिपोर्ट दर्ज हुई। लेकिन पुलिस ने इसकी सूचना स्वास्थ्य विभाग को देना तक उचित नहीं समझा। उन्होंने कहा कि चूहे से प्लेग जैसी महामारी फैलती है और हिंदुस्तान इसे भुगत भी चुका है। पुलिस के साथ स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही, उदासीनता भी अत्यन्त खेद जनक है। एक महामारी के दौर से विश्व गुजर रहा है। छोटी सी घटना भी बड$े संकट का कारण बन सकती है। यह प्रमाणित तथ्य है कि तीन चौथाई महामारियां घरेलू पालतू या जंगली जानवरों से मानव में फैलती है। इबोला, सार्स, नैरस और कोरोना जैसा संक्रमण इसी प्रकार से आया है। अम्बरीष कुमार ने जिला प्रशासन से मांग की है कि पुलिस की जिम्मेदारी है कि पूरे मामले की निष्पक्षता से जांच कर कार्रवाई करे। लेकिन जिला प्रशासन स्वास्थ्य विभाग को खाद्य सामग्री में चूहा मिलने की जांच के लिए आदेश दे और जो भी जिम्मेदार हो उसके खिलाफ महामारी अधिनियम के अंतर्गत कार्रवाई की जाए।
-—-—-—-—-—-—-—-—-—-—-—-—