महंत डोंगर गिरी का निधन, दी गई भू समाधि

हरिद्वार। संवाददाता
निरंजनी अखाड़े के ब्रह्मलीन महन्त डोंगर गिरि महाराज के आकस्मिक निधन पर उन्हें श्रद्धाजंली व्यक्त कर भू समाधि दी गई। ब्रह्मलीन महन्त डोंगर महाराज को अखाडा परिवार व महाविद्यालय परिवार ने भावभीनी पुष्पाजंली अर्पित कर ब्रह्मलीन संत की आत्मा की शान्ति हेतु दो मिनट का मौन रखा गया।ब्रह्मलीन महन्त डोंगर गिरि महाराज को श्रद्धाजंली अर्पित करते हुए पंचायती अखाडा श्री निरंजनी के सचिव महन्त रविन्द्र पुरी महाराज ने कहा कि ब्रह्मलीन पूज्य महन्त डोंगर गिरि जी महाराज एक सच्चे संत थे। उनका देहावसान एक युग की समाप्ति है। उनके जीवन को अखाड$े व कॉलेज के लिए योगदान और सेवा के लिए सदैव याद किया जायेगा। ब्रह्मलीन महन्त डोंगर गिरि को अपने श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए एसएमजेएन पीजी कॉलेज के प्राचार्य डा. सुनील कुमार बत्रा ने कहा कि महन्त डोंगर गिरि महाराज जनपद के सबसे प्राचीन महाविद्यालय की प्रबंध समिति में एक सम्मानित सदस्य रहे एवं उनका समय समय पर दिशा निर्देश कालेज परिवार को मिलता रहता था। स्व. महन्त डोंगर गिरि ने कॉलेज में कुछ समय पूर्व ही शौर्य दीवार का भव्य निर्माण करवाया था।
इस अवसर पर पंचायती अखाड$ा श्री निरंजनी के सचिव एवं कालेज प्रबंध समिति के अध्यक्ष महन्त लखन गिरि, सचिव महन्त राम रतन गिरि, महन्त नरेश गिरि, महन्त मनीष भारती, महाराज, महन्त राधे गिरि महाराज, दिगम्बर राजपुरी,दिगम्बर राकेश गिरि, दिगम्बर बलबीर पुरी, दिगम्बर रघुबन, दिगम्बर आशुतोष पुरी, दिगम्बर पूर्णानंद गिरि, दिगम्बर भगवान गिरि, दिगम्बर, उदय भारती, दिगम्बर गंगागिरि, दिगम्बर रविपुरी कॉलेज के डा. मनमोहन गुप्ता, डा. सरस्वती पाठक, डा. संजय कुमार माहेश्वरी, मोहन चन्द्र पाण्डेय, कैलाश जोशी आदि सहित कॉलेज के अनेक शिक्षक व कर्मचारियों ने अपने श्रद्धासुमन अर्पित किए। इस के बाद कालेज में शोक सभा आयोजित कर दो मिनट का मौन रखा गया। जिसके बाद पश्चात अध्यापन कार्य स्थगित कर दिया गया।