कृषि कानून के विरोध में सीएम पुष्कर सिंह धामी को काले झंडे दिखाने जा रहे किसान गिरफ्तार

कृषि कानून को वापस लेने की मांग को लेकर किसान सीएम के कार्यक्रम का विरोध करने मण्डी परिसर में एकत्र हुए। उन्होंने केंद्र सरकार को किसान विरोधी बताते हुए जमकर नारेबाजी की। एसडीएम तुषार सैनी, कोतवाल प्रकाश सिंह दानू, एसएसआई सुधाकर जोशी, एलआईयू इंचार्ज भाष्कर बडोला ने प्रदर्शनकारी किसानों से वार्ता कर विरोध प्रदर्शन स्थगित करने की अपील की। संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर सभी किसान संगठन के कार्यकर्ता शनिवार को मण्डी पहुंचे। यहां हुई सभा में वक्ताओं ने कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार चंद पूजीपतियों को लाभ दिलाने के लिए कंपनी की तरह काम कर रही है।

आठ माह से अधिक समय से किसान दिल्ली बॉर्डर पर बैठे हैं। किसान तीन कृषि कानूनों को रद्द करने, एमएसपी की गांरटी मांग रहे हैं। लेकिन सरकार हठधर्मी हो गयी है। इसलिए मजबूरन किसान सड़कों पर है। सरकार की अनदेखी के कारण भाजपा सरकारों का विरोध किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सीएम के कार्यक्रम का पुरजोर विरोध करेंगे। किसान अमरिया चौक में सीएम का विरोध करने के लिए काले झंडे लेकर जुलूस की शक्ल में निकल गये।

उनके हाथों में काली पट्टियां बधी थी। पुलिस ने किसानों को सीएम के आने से पूर्व ही गिरफ्तार कर लिया।  यहां भारतीय किसान यूनियन चढूनी के प्रदेश अध्यक्ष गुरसेवक सिंह, भारतीय किसान यूनियन के ब्लॉक अध्यक्ष गुरसाहब सिह, साहब सिंह बिजटी, जरनैल सिंह, जगपाल सिंह, बलविंदर सिंह, सकत्तर सिंह, पवन सिंह, परमजीत सिंह, मनजिंदर सिंह, गुरजोत सिंह, कुलदीप सिंह, जसविंदर सिंह शामिल रहे।