9216 अस्थि कलशो के साथ महादेव का काफिला हरिद्वार के लिए निकला-अनिल नरेन्द्र

हरिद्वार।कोरोना संक्रमण काल की दूसरी भयावह लहर के चलते कोरोना ग्रसित हुतात्माओ के मिले अस्थि कलशो के साथ साथ लावारिसो के वारिस बन 9216 अस्थि कलशो को पूरी वैदिक रीति रिवाज के साथ एक भव्य रथ में सजाकर महादेव के भक्तो का काफिला हरिद्वार पहुंच रहा है।श्री देवोत्थान सेवा समिति (पंजी) के तत्वावधान में लगातार 20 वीं बार यात्रा को अध्यक्ष श्री अनिल नरेन्द्र ने अपना आशीर्वाद देकर समिति के महामंत्री एवं यात्रा संयोजक विजय शर्मा को पूरी जिम्मेदारी सौंपते हुए हरिद्वार के लिए रवाना किया। श्री नरेन्द्र ने कहां,कि जब कोरोना की दूसरी लहर पीक पर थी और मृतकों के क्रिया कर्म के लिए वेटिंग चल रही थी, ऐसे समय में बहुत से महानुभाव अपने बचे परिवार को सुरक्षित रखने के चलते अपने अपनो को छोड़कर जा रहे थे,तो ऐसे समय में हमारी टीम के जांबाज बच्चों ने अपनी जान पर खेलकर ना केवल सारे अस्थि कलशो को पूरे दिल्ली एनसीआर के कोविड सेंटर वाले श्मशान घाटो से एकत्रित किया, बल्कि उन्हें अपने परिवार का ही सदस्य मानकर उनके अस्थि कलशो को संजोकर निगम बोध घाट,जमना बाजार के बारादरी भवन में ससम्मान रखा।उस समय से और अब पितृपक्ष तक इनके अतिरिक्त भी अन्य लावारिस अस्थि कलशो को इकठ्ठा कर आज हमारी टीम शहीदी पार्क, आईटीओ नई दिल्ली से गणमान्य नेताओं और वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा पुष्पांजलि अर्पित करने के बाद रवाना हुआ।श्री नरेन्द्र ने कहा,कि समिति ने पिछले 19 वर्षों में 1,41,685(एक लाख इकतालीस हजार छह सौ पिच्चासी ) अस्थि कलशो को कनखल के सतीघाट हरिद्वार में वैदिक रीति व 100 किलो दूध की धारा के साथ विसर्जित किया है और अब 20 वीं यात्रा में 9216 अस्थि कलशो को विसर्जित करने का बीड़ा उठाकर इस संख्या को इस बार तक 1,50,901(एक लाख पचास हजार नौ सौ एक) तक पहुंचा दिया है। उन्होंने कहा, कि मैं पूरे भारतवर्ष के अपने सभी भाई बहनों को आश्वस्त करना चाहता हूं,कि हमारी टीम ने प्रण लिया है,कि मां की कोख से प्रत्येक व्यक्ति ने जन्म लिया है, लेकिन शायद उनके कोई ऐसे कर्म हो जाते हैं,कि उन्हें अंत समय में अपने परिजनों का साथ नही मिल पाता, लेकिन हमारी टीम उन सभी को अपने परिवार का सदस् मानकर निरंतर उन्हें मोक्ष दिलवाने का काम जारी रखेगी। यात्रा संयोजक विजय शर्मा के साथ यात्रा में करीब 100 लोगों का काफिला भारत सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए अपने अपने वाहनों से रवाना हुआ।इस भव्य यात्रा पर पुष्पांजलि अर्पित करने हेतू लक्ष्मी नगर में डीके, मोहित भार्गव की टीम,प्रीत विहार के वीर सावरकर ब्लाक एसोसिएशन के श्री गुलाटी जी, ओसवाल भवन पर आर.एस.दुआ जी, दिलशाद गार्डन पर दलीप काले , वृंदावन गार्डन, गाजियाबाद में कन्हैयालाल श्रीवास्तव ,मेरठ के कंकरहेडा मार्ग पर आचार्य विष्णु शास्त्री जी, सुरेन्द्र शर्मा जी की टीम, नारसन बार्डर उत्तराखंड पर समिति के प्रांत प्रमुख पं.राजीव तुम्बडिया, सह प्रांत प्रमुख उमेश कौशिक, मंत्री टीना शर्मा , दिनेश भारद्वाज, रविन्द्र गोयल सहित दर्जनों लोगों ने श्रद्धासुमन अर्पित कर पितृदेवो का आशीर्वाद प्राप्त किया।देर शाम यात्रा निष्काम सेवा ट्रस्ट, भूपतवाला हरिद्वार पहुंची जहां ट्रस्ट के अवधेश शर्मा जी व दुबे ने अगवानी की। यात्रा में योगेन्द्र सिंह मान,किरणदीप कौर, रामकिशन लोहिया, शारदा प्रसाद,नमन शर्मा, आशीष कश्यप, विजय कुमार, निखिल कप्तान सिंह, गोपाल शर्मा, गोपाल वर्मा, सुनील डेढा,दयादत्त भारद्वाज, वीर भाई रामनाथ लूथरा, सुमन गुप्ता, एडवोकेट राजेश कुमार सहित भारी संख्या में सहयोगी थे। विजय शर्मा ने कहा कि यात्रा पुनः 25 सितम्बर 2021 शनिवार को सुबह 9 बजे भूपतवाला, निष्काम सेवा ट्रस्ट से शुरू होकर दोपहर 12 बजे कनखल के सतीघाट पहुंचेगी, जहां पं.जितेन्द्र शास्त्री जी के माध्यम से वैदिक रीति के साथ सभी का सामूहिक विसर्जन किया जाएगा।