Sawan Shivratri 2021: सावन शिवरात्रि होती है खास, जानें डेट, शिव-गौरी पूजा मुहूर्त और व्रत पारण का समय

भगवान शिव को अंत्यत प्रिय सावन या श्रावण मास की शुरुआत 25 जुलाई, दिन रविवार से शुरू होने जा रहा है। सावन का हर दिन भगवान शिव को समर्पित होता है। इस महीने में भगवान शंकर और माता पार्वती की विधि-विधान से पूजा की जाती है। सावन महीने के सोमवार को भोलेनाथ और मंगलवार को मंगला गौरी की पूजा का विधान है। कहा जाता है कि जो भक्त सावन के सोमवार या मंगलवार को व्रत नहीं रख पाते हैं तो उन्हें निराश होने की जरूरत नहीं है। सावन मास की शिवरात्रि का भी विशेष महत्व होता है। सावन शिवरात्रि के दिन व्रत रखने से भगवान शंकर के साथ माता गौरी का भी आशीर्वाद प्राप्त होने की मान्यता है।

 सावन की शिवरात्रि का व्रत और इस दिन भगवान शिव की आराधना करने से अर्चक को शांति, रक्षा, सौभाग्य और आरोग्य की प्राप्ति होती है। मान्यता है कि सावन की शिवरात्रि व्रती के सभी पाप को नष्ट कर देती है। सावन की शिवरात्रि का व्रत रखने से कुवारें लोगों को मनचाहा वर या वधु मिलने की मान्यता है। वहीं, दांपत्य जीवन में प्रेम की प्रगाढ़ता बढ़ती है।